काला होना बुरा तो नहीं - Inspirational story in hindi

काला होना बुरा तो नहीं 

Image Source :- Pixels Image


ये कहानी है एक छोटे से बच्चे की
जो हमारे इस समाज से बिलकुल अलग है जो दीखता काला है
जिसके छोटे छोटे हाथ पैर है , एकदम मासूम सा वो बच्चा जो बिलकुल हम से अलग है
अकेला ही खेलता है , किसी ने डाट दिया तो चुपके से सुन लेता है ,कोई उसकी मज़ाक उड़ाए तो उसको वो बर्दाश्त कर लेता है , और वही बच्चा अब बड़ा हो चूका है स्कूल जाता है , स्कूल
 में उसके कोई भी दोस्त नहीं बस अकेला रहता है ,
नाम तो बहोत प्यारा है उसका फिर भी लोग उसे उसके नाम से नहीं बुलाते है ,
क्यों क्यों की वो काला लड़का है , i means दीखता काला है , सब उसको काला ही बोलते है
वो बहोत परेशां है क्यों की लोगो को उसके कलर से प्रॉब्लम है , लोग उसका मज़ाक उड़ाते है ,
और वो ये सब बर्दाश्त कर रहा है ,
वो कोसता  है खुद को की वो काला क्यों पैदा हुआ अपने पेरेंट्स से पूछता है वो क्यों किया मुझे पैदा ,
लेकिन उसकी मम्मी बोलती है उसे मेरा बीटा ही है सबसे प्यारा , क्यों की माँ को तो अपना बच्चा लगता ही है प्यारा चाहे वो कैसा भी हो काला हो या गोरा
अब उस बच्चे ने थान ली इस समाज से कुछ अलग करने की
अब लग गया वो अपने काम पर क्यों की बनानी थी उसको अपनी ज़िन्दगी
लोग क्या बोलते है इसको उसने किया इग्नोर
अब तो मचाना था भाई को हर तरफ अपना शोर
और एक दिन आ ही गया उसके ज़िन्दगी में ऐसा
सब कुछ है उसके पास और बहोत सारा पैसा

लेकिन इतना होने के बाद भी उसके पास एक चीज़ की कमी थी
उसके पास गोरा कलर नहीं था अब भी वो काला है
लेकिन जो लोग बोलते थे उसको काला वो लोग अब उसको सर बुलाते है
अब वो समज गया काला हो या गोरा कोई फरक नहीं पड़ता
बस इंसान के पास पैसा और  दौलत होनी चाहिए
लेकिन नहीं यार इंसान के पास एक सोच होनी चाहिए कोण काला कोण गोरा
सबसे पहले वो एक इंसान होना चाहिए

हम लोग बस एक दूसरे की कमिया ही निकाल सकते है
लोगो में कमिया निकलने से पहले खुद में कितनी कमिया है
वो हमें देखनी चाहिए , और ये भगवन ही बनता है ना यार काले और गोरे इंसान
तो भगवन की बनायीं  हुई चीज़ो पर हम सवाल नहीं उठा सकते उनकी मज़ाक नहीं उड़ा सकते,

तो यार दुसरो में कमिया निकालने में क्यों टाइम waste  कर रहे हो
दुसरो की मज़ाक उड़ने से पहले खुद कुछ कर के दिखाओ खुद कुछ बन के दिखाओ
नहीं तो कल को लोग आपकी भी मज़ाक उड़ायेंगे

और हा यार काला  गोरा गरीब आमिर कुछ नहीं होता सिर्फ इंसान होता है , तो इंसानियत को ही ज़िंदा रखो


- written by : Zuber Khan 


Post a Comment

0 Comments